31 जनवरी 2010

उम्र की औकात



-डा0 सुरेश उजाला

सब कुछ है-याद
कुछ नहीं भूला हूँ-मैं

बहुत कुछ हो गया है-
तीन-तेरह
उलट-पलट

फिर भी-
सफेद कुहासे से धिरे-
पहाड़ी-जंगलों के बीच-
उलझने लगता हँू मैं
आज भी,


मेरे भीतर से
फूट पड़ता है-कोई
सूखा झरना,

खंडहरों में क़ैद-
पनीले स्वप्न
बेचैन हवाएं
ले जाती हैं-मुझे
जाने-कहाँ से कहाँ

बाहर का रेतीलापन
बहा ले जाता है-
मेरे अंदर का-
खैलता पानी,

क्योंकि मैंने
पलकों से किया है
नमक उठाने का-प्रयास
और
पानी की छाती पर
गोदा है-नया विश्वास,

इसलिए
मुझे मालूम है-
झूठे सच का दर्द
हवस की कोख
बेवश बस्तियाँ
भूखी-आँखें
सदियों की प्यास
बेलगाम आँधियाँ
और
उम्र की औकात
बगैर जिंदगी
होती है-क्या

जिसका परिणाम है-
बेरूत की आग
झुलसता लेबनान
फिलीपीन का धुआं
राख हुआ वियतनाम
और-
दक्षिण एशिया में
सुलगती चिंगारी,

इसलिए-
आओ-
करो जागरण
सच का-
सच्चाई का,
ताकि दे सको पैगाम
मानव-कल्याण का दुनिया में।

108-तकरोही, पं0 दीन दयाल पुरम मार्ग, इन्दिरा नगर,
लखनऊ-226016 सचलभाष-09451144480  

1 टिप्पणी:

  1. सुरेश जी की यह कविता सत्‍य के कई दरवाजे खोलती है। आपने सुरेश जी की कविता यहाँ देकर सभी का उपकार किया है आप दोनों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......