22 दिसंबर 2010


   प्रेम   जहाँ   अंधा  है
चित्र गुगल से साभार
 

प्रेम   एक     गेम   है।
जिसका  शुभ  ऐम है॥

सपनों   से  सजा-धजा-
सुख-दुख  का  फ्रेम है।

हार - जीत   पर इसमें
होता  नो    क्लेम  है॥

परवानों  के   ख़ातिर-
ज्वाला है,   फ्लेम  है॥

प्रेम के बिना फिर भी-
कहाँ   कुशल-क्षेम है॥

पहले   लुटता  मूरख-
करता फिर  ब्लेम है॥

प्रेम     बेवफाई    को-
करता    कनडेम   है॥

प्रेम   जहाँ   अंधा  है-
वहीं  शेम  -  शेम है॥

सबके दिल   में "डंडा"
इसका    गुडनेम  है॥


17 दिसंबर 2010






जब उनकी डिग्री देखी





पक्के       वो        मनमानी   में।
डिप्लोमा            शैतानी      में॥


कभी  -  कभी     वो    जेल  चले-
जाते      हैं        मेहमानी    में॥


कई      बार    
हैं     लड़े    मगर-
हार     गए       परधानी      में॥


चमक      रहे       काले     धंधे-
चमचों     की    निगरानी    में॥


चोर,   उचक्के,   रहजन       हैं-
खुश      उनकी   कप्तानी   में॥


मीलों    भूमि    दबाए  फिर भी-
 
चर्चित      हैं      भूदानी     में॥


चाह   रहे    हैं   नाम    जोड़ाना-
स्वतंत्रता         सैनानी       में॥
 

जब    उनकी      डिग्री    देखी-
एम०ए०      जहरखु़रानी     में॥



12 दिसंबर 2010

चित्र cartoonindore.blogspot.com से साभार



















तीन मुक्तक




(1) मंहगाई


मंहगाई    हरजाई    है
करती जेब - सफाई है॥
कोई   नेता   क्यों   बोले-
उनके   लिए   मलाई है॥


(2) लोकतंत्र


तुमने जिसको वोट दिया।
उसने कर विस्फोट दिया॥
मौका   पाया  लोकतंत्र का-
गला   जोर  से घोट दिया॥


(3) डेंगू


वे   वतन  को  चर रहे  हैं।
पेट अपना   भर   रहे   हैं॥
खैर   मांगे    उनसे    डेंगू -
मरने   वाले   मर   रहे हैं॥

29 नवंबर 2010

 प्रसिद्ध साहित्यकार  सत्यकाम "शिरीष"








video


सत्यकाम "शिरीष" का चर्चित गीत "नहीं सच हो सका सपना" उन्हीं के स्वर में सुनिए।

21 नवंबर 2010

 भूर्ण-हत्या पर कवि रामबहादुर ’पिंडवी’ का लोकगीत

video
   
कवि रामबहादुर ’पिंडवी’ 
से भोजपुरी  में उनका मार्मिक लोकगीत सुनिए

14 नवंबर 2010

चर्चित गीतकार श्री शिवभजन "कमलेश"
का काव्य-पाठ


video


नई और पुरानी पीढ़ी के बीच होने वाले वैचारिक मतभेदों पर आधारित विचारपरक गीत "कोई अर्थ नहीं निकलेगा" को चर्चित गीतकार श्री शिवभजन "कमलेश" से उनके स्वर में आस्वादन कीजिए।


11 नवंबर 2010

लेखक,  संपादक,  समीक्षक, भाषाविद, प्राध्यापक  साहित्यभूषण    डॉ० रामाश्रय सविता से उनका बहुचर्चित गीत "आँसुओं है मना" सुनिए।




video
        
                           डॉ० रामाश्रय सविता के स्वर में उनका काव्य-पाठ

08 नवंबर 2010


 
        

दिवाली  मुबारक
             

                   -डॉ० डंडा लखनवी

नई   रोशनी   नव,  प्रणाली    मुबारक।
दिवाली   मुबारक,   दिवाली   मुबारक॥

हुए  खेल   ही   खेल   में  खेल  कितने-
"फ्री - इंडिया"   में    दलाली  मुबारक॥


प्रधानी   मिली  चन्द  कट्टों  के बल  पे-
दिवाली  में   आई    दुनाली  मुबारक॥



सभी   काम  उनके  हैं   होते  फटाफट-
तुम्हारे   में      हीलाहवाली   मुबारक॥



ओबामा जी  लाए  दिवाली  का तोहफ़ा-
मिले जो  भी  डाली  वो डाली मुबारक॥

गबन  में  हुए  थे जो  परसों  मुअत्तल-
हुई   आज   उनकी   बहाली  मुबारक॥

घर  आई  हुई  "लक्ष्मी" का है स्वागत-
अगर वो है "काली" तो काली मुबारक॥

असरदार गण के  हैं सरदार "गणपति"-
सभी  छवियाँ उनकी निराली मुबारक॥

25 अक्तूबर 2010



ग़ज़लकार कुवंर  कुसुमेश के स्वर में 

उनकी ग़ज़ल : हर शाम छलकते हैं पियाले कहीं-कहीं



                                 ग़ज़लकार कुवंर कुसुमेश अपने अध्ययन-कक्ष में



video 

                                  ग़ज़लकार कुवंर कुसुमेश रचना-पाठ करते हुए



03 अक्तूबर 2010

गजल : आ सको आना भला ये भी बुलाना ........



प्रसिद्द साहित्यकार -रवीन्द्र कुमार ’राजेश’
के स्वर में उनकी गजल का आस्वादन
कीजिए।

प्रस्तोता -डॉ० डंडा लखनवी




video

02 अक्तूबर 2010

मत बारूदी खेल से........


कुंडलीकार श्री रामाऔतारपंकजकी
दो कुंडलियाँ उन्हीं के स्वर में सुनिए।

प्रस्तोता -डॉ० डंडा लखनवी








video





29 सितंबर 2010

किस भाँति जगे जन चेतनता....


प्रसिद्ध साहित्यकार -डॉ० तुकाराम वर्मा
के स्वर में उनके दो छंदो का आस्वादन
कीजिए।


प्रस्तोता
-डॉ० डंडा लखनवी

video

22 सितंबर 2010

नोकझोक : ज्योतिषियों और वैज्ञानिकों की

-डॉ० डंडा लखनवी

आजकल अनेक टी०वी० चैनलों पर ज्योतिष-शास्त्र से जुडे़ कार्यक्रम प्रमुखता से प्रसारित हो रहे हैं। कुछ कार्यक्रमों में वैज्ञानिकों और ज्योतिषियों के बीच नोकझोक अर्थात शास्त्रार्थ भी दिखाया जाता है। इस नोकझोक में ज्योतिषियों के अपने तर्क होते हैं और वैज्ञानिकों के अपने। दोनों में से कोई भी हार मानने के लिए तैयार नहीं होता। अंतत: ज्योतिषी महोदय अपनी बात मनवाने के लिए अड़ जाते हैं। वैज्ञानिक जब उनकी बातों का खंडन करते हैं तो उन्हें क्रोध जाता है और वे अपनी योग विद्या के प्रभाव से विज्ञानवादी वक्ता को सबक सिखाने पर तुल जाते हैं। यह सबक येनकेन प्रकारेण उसे भयभीत करने का तरीका होता है। इस काम के लिए वह वैज्ञानिक पर मनोविज्ञान दबाव भी बनता है। वैज्ञानिक उसके दबाव में जब नहीं आता तो ज्योतिषी महोदय के तेवर धीरे-धीरे आक्रामक होते जाते हैं और विज्ञानवादी रक्षात्मक स्थिति में जाता है। कुल मिला कर यह एक ऐसा स्वांग होता है जो दिन भर चलता है। दर्शक गण हक्का-बक्का हो कर दोनों के तर्क-वितर्क में डूबते-उतराते रहते हैं। कोई निर्णय अंत तक नहीं हो पाता है। सारंश यह है कि निर्णय दर्शक को स्वयं करना होता है।

इस संबंध में मेरा मानना है कि ज्योति शब्द प्रकाश अर्थात आलोक का द्योतक है। प्रकाश के सम्मुख आने पर वे सभी चीजें दिखने लगती हैं जो अंधेरे के कारण हमें नहीं दिखाई पड़ती हैं। जिस प्रकार सजग शिक्षक अपने विद्यार्थियों के आचरण और व्यवहार में निहित गुण-दोषों को देखकर उसके जीवन के विकास के खाके का अनुमान लगा लेता है। वैसे ही ज्योतिषी भी जातक के जीवन में घटित होने वाली धटनाओं का अनुमान लगाता है, खाका खीचता है। इस कार्य में वह धर्म, दर्शन, गणित, अभिनय-कला, नीतिशात्र, तर्कशास्त्र, मनोविज्ञान, पदार्थ-विज्ञान, शरीर-विज्ञान, खगोल-विज्ञान, समाजशात्र तथा लोक रुचि के नाना विषयों का सहारा लेता है। वस्तुत: ज्योतिष शास्त्र एक सामाजिक विज्ञान है। यह पदार्थों पर आधारित विज्ञान नहीं है। इस विज्ञान की प्रयोगशाला समाज है। सामाजिक विज्ञानों के लिए अकाट्य सिद्धांतों का निरूपण करना कठिन होता है। सामाजिक परिवर्तन की गति बहुत धीमी होती है। इसके अंर्तगत होने वाले परिवर्तन के प्रभाव तत्काल दिखाई नहीं देते हैं। अत: पदार्थ विज्ञानों की भांति ज्योतिष के निष्कर्ष शतप्रतिशत खरे होने की कल्पना आप कैसे कर सकते हैं? ज्योतिष के निष्कर्षों की विविधता का एक अन्य कारण और भी है। कु़दरती तौर पर हर व्यक्ति का कायिक और भौतिक परिवेश दूसरे से भिन्न होता है। इस आधार पर उसका विकास स्वतंत्र और दूसरे व्यक्ति से भिन्न होता है। यहाँ तक जोड़वां संतानों में भी कोई कोई अन्तर अवश्य रहता है जिसके आधार पर वे पहचाने जाते है। इस आधार पर हर व्यक्ति का भविष्य भी दूसरे से भिन्न ठहरता है। अत: पदार्थ विज्ञान की भाँति इससे तत्काल और सटीक परिणामों की आशा करना व्यर्थ है। इसके परिणाम एक प्रकार के पूर्वानुमान होते हैं। हाँ, किसी धंधे को चमकाने के लिए मीडिया एक अच्छा माध्यम है ज्योतिषियोंऔर मीडिया की आपसी साठगांठ से दोनों का धंधा फलफूल रहा है। वर्तमान को सुधारने से भविष्य सुधरता है। इस तथ्य अगर आप आत्मसात लें तो आपका भविष्य अवश्य सुखद होगा।


19 सितंबर 2010

कोने से कोने तक


-अशोक ऋषिराज दुबे

आदमी की आँखों में
आदमी का रक्त जमा
रोटी के टुकड़ों पर
भूखे का स्वप्न और-

स्वप्नों की महफिल में
मानव का यह समाज ?
वह समाज ?
क्षितिज पर कोलाहल रक्तिम हो-

यहाँ जमा वहाँ जमा
कोनों की दूरियों का
यह तनाव वह तनाव,
और तना और तना।

कोने से कोने को जोड़ दो,
सारे तनावों को तोड़ दो,
पहिए की परिधि पर-
विषमता का कालचक्र

समता के नामों में
एक नया नाम जुड़ा।
आदमी की आँखों में
आदमी का रक्त जमा।
("कोने से कोने तक" से साभार)

३२-चाणक्य पुरी, सेक्टर-१४ (पावर हाउस के निकट)
इंदिरा नगर, लखनऊ-२२६०१६