12 दिसंबर 2010

चित्र cartoonindore.blogspot.com से साभार



















तीन मुक्तक




(1) मंहगाई


मंहगाई    हरजाई    है
करती जेब - सफाई है॥
कोई   नेता   क्यों   बोले-
उनके   लिए   मलाई है॥


(2) लोकतंत्र


तुमने जिसको वोट दिया।
उसने कर विस्फोट दिया॥
मौका   पाया  लोकतंत्र का-
गला   जोर  से घोट दिया॥


(3) डेंगू


वे   वतन  को  चर रहे  हैं।
पेट अपना   भर   रहे   हैं॥
खैर   मांगे    उनसे    डेंगू -
मरने   वाले   मर   रहे हैं॥

9 टिप्‍पणियां:

  1. तीनो मुक्तक एक से बढ़कर एक हैं , कम शब्दों में अपने सन्देश को संप्रेषित करने में आप सफल हुए हैं ... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब डंडा साहब...आनंद आ गया...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. "खैर मांगे उनसे डेंगू ..."
    अत्यंत चुटीला व्यंग्य| तीनो मुक्तक शानदार हैं|
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की ज्वलंत समस्याओं को एक साथ व्यंग्य के धागे में पिरो कर सब के समक्ष बखूबी आपने रख दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूब अच्छे डंडों से पाठ पढ़ाया. सुंदर क्षणिकाएं.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......