17 दिसंबर 2010






जब उनकी डिग्री देखी





पक्के       वो        मनमानी   में।
डिप्लोमा            शैतानी      में॥


कभी  -  कभी     वो    जेल  चले-
जाते      हैं        मेहमानी    में॥


कई      बार    
हैं     लड़े    मगर-
हार     गए       परधानी      में॥


चमक      रहे       काले     धंधे-
चमचों     की    निगरानी    में॥


चोर,   उचक्के,   रहजन       हैं-
खुश      उनकी   कप्तानी   में॥


मीलों    भूमि    दबाए  फिर भी-
 
चर्चित      हैं      भूदानी     में॥


चाह   रहे    हैं   नाम    जोड़ाना-
स्वतंत्रता         सैनानी       में॥
 

जब    उनकी      डिग्री    देखी-
एम०ए०      जहरखु़रानी     में॥



12 टिप्‍पणियां:


  1. सुबह सुबह खराब कर दी आपने नेता पूजा करके ...
    हमें भी हाथ जोड़ कर खड़ा रहना पड़ा न आपके पीछे इस खल वंदना में...
    मगर बड़े भाई के पीछे तो रहना ही है !
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन डंडा साहब...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी - कभी वो जेल चले-
    जाते हैं मेहमानी में॥

    क्या बात है डंडा जी.सुन्दर व्यंग है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया डंडा चलाया साहब
    वाह वाह
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ डंडा जी, बहुत ही बढ़िया व्यंग्यात्मक ग़ज़ल है .. हर एक शेर एकदम लाजवाब है ... हमारे देश और समाज में यही तो होता है, यही हकीकत है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. meree samjh me ye hee hai dhardar paina lekhan.......itnee khoobsooratee se likh jana sab ke bas kee baat nahee.......
    Aabhar.......

    kshnikae bhee teeno ek se bad kar ek hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत साधुवाद! सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय डंडा साहब जी
    नमस्कार !
    ........बढ़िया व्यंग्यात्मक ग़ज़ल है ..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......