08 नवंबर 2010


 
        

दिवाली  मुबारक
             

                   -डॉ० डंडा लखनवी

नई   रोशनी   नव,  प्रणाली    मुबारक।
दिवाली   मुबारक,   दिवाली   मुबारक॥

हुए  खेल   ही   खेल   में  खेल  कितने-
"फ्री - इंडिया"   में    दलाली  मुबारक॥


प्रधानी   मिली  चन्द  कट्टों  के बल  पे-
दिवाली  में   आई    दुनाली  मुबारक॥



सभी   काम  उनके  हैं   होते  फटाफट-
तुम्हारे   में      हीलाहवाली   मुबारक॥



ओबामा जी  लाए  दिवाली  का तोहफ़ा-
मिले जो  भी  डाली  वो डाली मुबारक॥

गबन  में  हुए  थे जो  परसों  मुअत्तल-
हुई   आज   उनकी   बहाली  मुबारक॥

घर  आई  हुई  "लक्ष्मी" का है स्वागत-
अगर वो है "काली" तो काली मुबारक॥

असरदार गण के  हैं सरदार "गणपति"-
सभी  छवियाँ उनकी निराली मुबारक॥

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपको प्रकाश पर्व की बधाई और शुभकामनाएं ...
    आप अपने लेखन से ब्लॉग जगत और अंतर्जाल को आलोकित करते रहें

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ...
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. नई रोशनी नव, प्रणाली मुबारक।
    दिवाली मुबारक, दिवाली मुबारक॥


    आपको एव आपके परिवार को दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना है!
    --
    प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

    अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
    उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको इस प्रकाश पर्व पर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. "दें गणेश जी विमल बुद्धि,
    लक्ष्मी मइया शुभ धन दें|
    खील,बताशों, ख़ुशियों से,
    भर हर घर का आँगन दें||"

    सशक्त व्यंग्य के लिए बधाई|आप को भी दीपावली मंगलमय हो|
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर अति सुन्दर.

    सुहानी लगे हर गली आपको,
    लगे फूल-सी हर कली आपको,
    सुखी रक्खें बजरंगबली आपको,
    मुबारक हो दीपावली आपको.

    कुँवर कुसुमेश

    उत्तर देंहटाएं
  9. घर आई हुई "लक्ष्मी" का है स्वागत-
    कमाई है काली तो काली मुबारक॥

    सुन्दर व्यंग्य के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हुज़ूर कमाल की गज़ल कही है आपने...हर शेर ऐसा है गोया किसी ने जूता भिगो के मारा हो...तंज को चाशनी में घोल कर परोसने का हुनर कोई आपसे सीखे...लाजवाब गज़ल...दाद कबूल करे और साथ ही दीवाली की शुभकामनाएं भी...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. "गबन में हुए थे जो परसों मुअत्तल
    हुई आज उनकी बहाली मुबारक।"
    भारतीय राजनीति और न्याय व्यवस्था के खोखलेपन की ओर इंगित करती गज़ल बेहद पसंद आई। डा.साब को दीपावली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गबन में हुए थे जो परसों मुअत्तल-
    हुई आज उनकी बहाली मुबारक॥
    दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. लखनवी जी , मेरे ब्लॉग पर आने और टिप्पणी के लिए धन्यवाद ...ऐसे ही निरंतर प्रोत्साहन की आशा है ...शुभकामनायें
    आपकी रचना भी सुंदर भाव लिए ,गहरे अर्थ संप्रेषित करती है

    उत्तर देंहटाएं
  14. kahan ho bade bhai ! aaj aap se blog par milkar varshon pahle anek manchon par sath-sath rahna aur kavi sammelano ko jamaana---sari yaaden taza ho gayeen.. mitr ek baar milne ka man karta hai.. zindgi to badi mushkilon se nikal rahi hai..beemari ne saath nahi chhoda ab tak ..
    aap apni bataiyega..
    rachna to shandar hai hi..

    उत्तर देंहटाएं
  15. डा ० साहब बहुत ही करारा व्यंग्य लिखे हैं आपने ! ये आपकी लेखनी का ही कमाल है की दुनाली भी मुबारक और दिवाली भी मुबारक ! शुभ कामनाएं ! बहुत बहुत आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैंने अभी अभी एक ब्लॉग पर टिप्पणी स्वरूप आपका निम्न व्यंग पढ़ा.
    क्या कहने हैं, मज़ा आ गया
    "नए दौर में ये इजाफ़ा हुआ है।
    जो बोरा कभी था लिफ़ाफ़ा हुआ है॥
    जिन्हें शौक है थूकने - चाटने का
    वो कहते हैं इससे मुनाफ़ा हुआ है॥"

    उत्तर देंहटाएं
  17. आए पहली बार मिली ढेरों मुबारक
    वाह मुबारक वाह वाह वाह मुबारक

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......