26 सितंबर 2011

बिल्ली का खंभा नोचना

                          
                -डॉ० डंडा लखनवी

हिंदी में एक मुहावरा है....... "बिल्ली का खंभा नोचना"। इस मुहावरे का अर्थ है कदाचार में पकड़े जाने पर कुपित होना, रोष प्रकट करना। यहाँ एक उदाहरण रख रहा हूँ। टिकट-विंडो पर लम्बी लाइन लगी होती है। एक व्यक्ति आता है और लाइन में लगे हुए लोगों को धकिया कर हाथ टिकट-विंडो में डाल देता है। यदि लोग आपत्ति करते हैं तो बहाने बनाता है। किसी तरह से जब टिकट लेकर दूर खड़े अपने साथियों के पास पहुंचता है तो चकमा दे कर जल्दी टिकट पाने पर इतराता है। कदाचार का यह एक उदाहरण मात्र है। कदाचारी के पास बहुत से बहाने होते हैं। उसकी हरकतें पर जब पकड़ी जाती हैं तो उसकी दशा 'बिल्ली का खंभा नोचने वाली' हो जाती है। ऐसी हरकतें  करने वाले विदेशी नहीं देशी लोग हैं, नेता ही नहीं, जनता भी है।

8 टिप्‍पणियां:

  1. सही बात कही आपने ।
    -----
    कल 27/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह कदाचार पारिवारिक भ्रष्टाचार का नमूना है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut dino baad aapki post padhi ...aapne sahi kaha hai din prati din yese bahut se udaahran mil jaate hain.yeh kadachar sahi me manav ke jenes se hi aate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक आलेख अच्छा लगा आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. AAP JAB BHI KAHTE HAIN SAHI KAHTE HAIN AUR SAHI KE SIVA KUCHH NAHIN KAHTE HAIN...WAAH.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहते हैं आप...
    बढ़िया उदाहरण...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......