25 नवंबर 2012

दोहों के आगे दोहे




5 टिप्‍पणियां:

  1. आज के फास्ट कवि की एक्स रे अति-उत्तम है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह क्या बात है अनोखा अलग अंदाज
    अरुन शर्मा
    www.arunsblog.in

    उत्तर देंहटाएं


  3. साम -दाम -भय भेद ,का कुनबा भ्रष्टाचार ,

    आम आदमी इसी का होता रहा शिकार .

    ------डंडा लखनवी

    क्या बात है 127 सालों से आम आदमी का खून चूसने वालों के मुंह पे दे मारा है डंडा ,जियो हजारो साल .

    उत्तर देंहटाएं
  4. साम-दाम-भय-भेद का, गया ज़ाना मित्र।
    बिगड़े हुए चरित्र की, पोल खोलते चित्र।।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......