14 अगस्त 2011

*****जय महापर्व पन्द्रह अगस्त

                                                      -डॉ० डंडा लखनवी

जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त।
                                          जय महापर्व पन्द्रह अगस्त।।


घर -  घर  में   बजी   बधाई    थी,
आजादी     जिस    दिन  आई थी,
पुरखों  ने     जिसकी  प्राणों    से-
क़ीमत     संपूर्ण     चुकाई      थी,

उस  स्वतंत्रता की रक्षा में  नित रहना होगा सजग - व्यस्त।
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त॥

आजादी      के       उपहार  मिले,
मन      चाहे       करोबार    मिले,
खुल   गए   गुलामी    के   बंधन-
जन - जन को बहु अधिकार मिले,

कर्तव्य   किए  बिन, याद रहे! अधिकार स्वत: होत निरस्त।
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त॥

हम    हिंदू     सिख   ईसाई     हैं,
मुस्लिम    हैं,   बौद्ध  -  बहाई  हैं,
बहुपंथी    भारत     वासी     हम-
आपस    में    भाई   -   भाई   हैं,

सारे  अवरोध  हटा कर हम, पथ अपना करते ख़ुद प्रशस्त।
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त


(नोट :  आजादी की स्वर्णजयंती दि० १५-८-१९९७ को डी-डी-१ से संगीतबद्ध रूप में प्रस्तुत रचना।)

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लगा यह गीत।
    आपको स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --------
    कल 15/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वतन्त्रता दिवस की मंगलकामनाएं। प्रेरणास्पद कविता द्वारा उत्कृष्ट विचार व्यक्त किए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बंधुवर!
    आपको भी स्वतन्त्रता-दिवस की मंगलकामनाएं..... सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  11. अति सुंदर गीत,
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. स्वतंत्रता दिवस की शुभकानाएं

    बेहतरीन रचना, बधाई स्वीकारें

    नीरज .
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर गीत,
    आपको स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह वाह... कितना सुन्दर भावपूर्ण गीत....
    राष्ट्र पर्व की हार्दिक बधाइयां....

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही भावनाओं से भरा देशप्रेम से ओतप्रोत गीत लिखा है आपने /सुंदर ढंग से प्रस्तुत की गई प्रस्तुति/बधाई आपको /
    ब्लोगर्स मीट वीकली (४)के मंच पर आपका स्वागत है आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आभार/ इसका लिंक है http://hbfint.blogspot.com/2011/08/4-happy-independence-day-india.html
    धन्यवाद /

    उत्तर देंहटाएं
  17. Superb lines and great write up. Thanks a lot for sharing this beautiful song.
    domain registration india

    उत्तर देंहटाएं
  18. आजादी के उपहार मिले,
    मन चाहे करोबार मिले,
    खुल गए गुलामी के बंधन-
    जन-जन को बहु अधिकार मिले,
    uprokt sunder prastuti hetu aabhar.......

    उत्तर देंहटाएं
  19. खूबसूरत अभिव्यक्ति.बेहतरीन रचना, बधाई स्वीकारें ..आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहतरीन अभिव्यक्ति और बेहतरीन रचना |

    मेरे ब्लॉग में आपका सादर आमंत्रण है |
    मेरी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  21. खूबसूरत अभिव्यक्ति.बेहतरीन रचना, बधाई स्वीकारें ..आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  23. Bahut sunder
    उठो क्रांति के अग्रदूत, फिर अब विलम्ब का समय नहीं ।
    सुनो समझो करो तुम, नर हो तुम्हारा कर्म यही ॥
    पानी-पानी हुए जा रहे, सत्ता के सूचि गलियारे ।
    मत्स्य- न्याय में उलझ रहे है, पदासीन सब मछुआरे ॥ .....................
    Please go to my blog for full reading
    www.trivenishankar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. कर्तव्य किए बिन, याद रहे! अधिकार स्वत: होत निरस्त।
    जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त॥

    preranatmak prastuti ke lie aapka hardik abhar.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......