25 जुलाई 2010

रामऔतार ‘पंकज’ की दो कुंडलिया

-रामऔतार ‘पंकज’
 
बाँटें  सब में  प्यार  नित, संतों  का  मत  मान।
प्यार  मिलेगा  मूल  में, ब्याज मान-सम्मान॥
ब्याज मान-सम्मान, कभी  परोक्ष भी मिलता।
माली   सीचे    मूल,  फूल   डाली  में  खिलता॥
कह ’पंकज’कर भेद, व्यक्ति में  व्यक्ति न छाँटें।
रख  समता   भाव, प्यार  जन-जन   में   बाँटें॥ 1


मत   बारूदी   खेल  से, करें  जगत  को   क्षार।
जग के  सब मानव  सगे, कुछ तो करें विचार॥
कुछ तो करें विचार, व्यक्ति  से  व्यक्ति  न बाँटें।
बैठे   हैं  जिस   डाल, भूल  कर  उसे  न  काटें॥
’पंकज’ करें  उपाय,  ज्योतिमय बने अनागत।
सब   में  हो  सदभाव, व्यक्ति  में भेद करें मत॥ 2


पता-539क/65-विमला सदन
शेखपुर कसैला, नारायण नगर,
लखनऊ-226016
सचलभाष-9532888894

2 टिप्‍पणियां:

  1. हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें
    हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

    इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.



    कोड के लिए यंहा क्लिक करे

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणीयों का सदैव स्वागत है......